INTERNATIONAL SHIPPING:- Please contact on our WhatsApp if need any medicine in these countries- Australia, Austria, Bangladesh, Bahrain, Belgium, Bhutan, Brazil, Canada, China, Denmark, Finland, France, Germany, Hong Kong, Hungary, Indonesia, Israel, Italy, Japan, South Korea, Kuwait, Malaysia, Mongolia, Mexico, Nepal, Netherland, New Zealand, Norway, Oman, Philippines, Poland, Qatar, Saudi Arabia, Singapore, Sri Lanka, Sweden, Switzerland, Taiwan, Thailand, UAE, UK, Ukraine, USA, Vietnam and rest of the world. WhatsApp- +971524115684/+917645065097

खण्ड 1 वात

प्रकृति निर्धारक प्रश्नोत्तरी(Quiz) में आपका स्वागत है

अपने शरीर को जानना और संतुलन बनाये रखना ही आपके 'आरोग्यता' की कुँजी है. आपको अपनी प्रकृति जानने में सुविधा रहे इसके लिए यहाँ पर 20 प्रश्न दिए गए हैं, प्रत्येक प्रश्न और उसके उत्तर को सावधानी से अध्यन करें फिर विचार करें कि आप पर कितने लागू होते हैं.

उत्तर चुनते समय यह अवश्य ध्यान रखें कि अपने जीवन काल में, पिछले कुछ वर्षों में, अपने बारे में जो अनुभव किया हो उसी के अनुसार उत्तर का चयन करें. आगे दिए गए प्रश्न आपके 'वात' के बारे में है जिसका परिणाम अंक में मिलेगा 'सबमिट' करने के बाद. आपके रिकॉर्ड के लिए इस प्रश्नोत्तरी का परिणाम आप द्वारा दिए गए ई मेल पर भी भेज दिया जायेगा.

आप का नाम
मोबाइल नम्बर
Email
पैदल चलते समय मेरी गति तेज़ और हल्की होती है -
मैं बहुत जल्दी-जल्दी बोलता हूँ कुछ न कुछ बोलने की इच्छा बनी रहती है मेरे दोस्त मुझे वाचाल(बहुत बोलने वाला) कहते हैं -
मैं भावुक स्वाभाव(Emotional) का हूँ मेरा मूड आसानी से बदल जाता है -
मैं नवीनता के प्रति लालायित रहता हूँ(नई चीज़ें जानने को उत्सुक)-
किसी भी बात कर तुरन्त असर होता है क्योंकि संवेदनशील हूँ पर वह असर स्थाई नहीं रहता -
मैं अधिक चिन्तित और व्यग्र(परेशान) रहता हूँ, उसी दरम्यान नाख़ून काटने या ज़मीन कुरेदने जैसी आदत हो सकती है -
घबराहट, चिड़चिड़ापन तनाव जैसे मनोद्वेगों में तुरन्त जकड़ जाता हूँ -
मेरा मस्तिष्क बेहद कल्पनाशील, सक्रिय और यदा-कदा अधीर भी होता है -
मेरी चेष्टाएँ तेज़ सक्रिय हैं मेरी उर्जा आवेग के रूप में आती है -
मेरी त्वचा रुखी हो जाती है विशेषतः शीत ऋतु में -
मुझे नीन्द आने में प्रायः कठिनाई आती है, हल्की बाधा से ही नीन्द खुल जाती है, गहरी नीन्द कभी-कभार ही आती है-
परनिन्दा(दूसरों की बुराई करना), इर्ष्या(दूसरों से जलना), मक्कारी, जी कार्य करने में हिचक नहीं होती-
कामवासना(सेक्स) में मेरी रूचि है, पर संतोष नहीं मिलता है -
मेरी जल्दी-जल्दी खाने की आदत है, यदि स्वंय पर छोड़ दूँ तो मेरा(आहार, नीन्द, पूजा-पाठ, कार्य) या कोई भी दिनचर्या अनियमित हो जाती है-
मैं शीघ्रता से ग्रहण करता हूँ और शीघ्रता से भूल भी जाता हूँ -
मेरी शारीरिक बनावट दुबली है और मेरा वज़न आसानी से नहीं बढ़ता -
मैं छोटे-मोटे कारणों से भी डर जाता हूँ और सोचते-सोचते बात का बतंगड़ बना लेता हूँ -
अपने को बीमार मानता हूँ और जल्दी लाभ की उम्मीद से डॉक्टर भी जल्दी बदल देता हूँ -
मुझे अधिकतर दुविधा हो जाती है, तुरन्त रोमांचित हो जाना भी मेरी आदत है -
मुझे बहुत जल्दी गैस, कब्ज़, डकार और पेट भरा होना जैसी शिकायत हो जाती है-
This entry was posted in . Bookmark the permalink.

One thought on “खण्ड 1 वात

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code